तीन मंत्रियों के खाली हुए पद में दो के नाम तय, तीसरे मंत्री पर खींचतान जारी

उपचुनाव के बाद देवास जिले में भारतीय जनता पार्टी के चार विधायक हो चुके हैं। इसके साथ ही अब यह सुगबुगाहट भी शुरू हो गई है कि क्या देवास जिले से मध्य प्रदेश सरकार में किसी को मंत्री पद मिलेगा?

उपचुनाव में जिले के तीनों ही भाजपा विधायक जी तोड़ मेहनत करते दिखाई दिए हैं। जहां पूरे विधानसभा क्षेत्र में सह प्रभारी के रूप में देवास विधायक राजमाता पवार बेहद सक्रिय नजर आईं, तो वहीं खातेगांव विधायक आशीष शर्मा भी हाटपिपलिया क्षेत्र में काफी सक्रिय रहे।

बागली विधायक पहाड़ सिंह कन्नौज क्योंकि पहली बार के विधायक हैं, इसलिए मंत्री बनने की रेस से बाहर हैं। दूसरी तरफ खातेगांव विधायक आशीष शर्मा संगठनात्मक दृष्टि से देखा जाए तो प्रबल दावेदार हैं।

वहीं देवास विधायक राजमाता भी सबसे मजबूत दावेदार के रूप में सबके सामने हैं। ज्योतिरादित्य सिंधिया भी राजमाता के नाम पर सहमत हो सकते हैं।

सुगबुगाहट यह भी है कि महाराज विक्रम सिंह पवार युवा मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष बन सकते हैं। ऐसे में देवास से एक मंत्री पद का सैक्रिफाइस हो जाए यह कहना बड़ी बात नहीं है।

वहीं विधायकी में वरिष्ठता आशीष शर्मा की बनती है, लेकिन पेंच यह है कि जिले से किसी एक ही विधायक को मंत्री पद दिए जाने की संभावना है।

अब इन संभावनाओं के बीच में एक आशंका भी है, जो यह है कि फिलहाल सरकार में पूरे के पूरे मंत्री पद भरे हुए हैं। जो तीन मंत्री हारे हैं उनकी जगह पर कई दावेदार पहले से मौजूद हैं।

इंदौर 2 के विधायक रमेश मेंदोला का मंत्री बनना लगभग तय है। वही सिंधिया खेमे से भी किसी को मंत्री बनाया जा सकता है। दूसरा नाम कटनी से कद्दावर नेता विधायक संजय पाठक का हो सकता है। तीसरे नाम की खींचतान में कई वरिष्ठ अपने आप को फिट करने के लिए जरूर लगे होंगे।

अंदरखाने से खबर यह भी है कि भाजपा ने यदि एक संसदीय क्षेत्र से एक मंत्री वाला फार्मूला फिट कर दिया तो देवास जिला बिना मंत्री पद के रह जाएगा। क्योंकि देवास संसदीय क्षेत्र में इंदर सिंह परमार पहले ही सरकार में शिक्षा मंत्री बने हुए हैं।

इंदौर क्योंकि महानगर है इसलिए वहां दो, तीन या अधिक मंत्री भी बनाए जाने की संभावना नजर आती है। फिलहाल खबर यह भी है कि सरकार मुख्यमंत्री के तिरुपति दर्शन कर लौटने के बाद विभागों का बंटवारा करेगी। जो तीन मंत्री चुनाव हारे हैं, उनके विभाग किसी अन्य मंत्री को दिए जाएंगे।

नए मंत्री बनाने के बारे में निर्णय त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव और नगर निगम चुनाव के बाद होने की संभावना ज्यादा है।

अब देखना यह है कि देवास जिला कोई मंत्री पद पाने में कामयाब होता है कि नहीं? जिन तीन मंत्रियों के स्थान खाली हुए हैं, उनमें से दो स्थान लगभग तय माने जा रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

इसे भी पढ़े

आपका मुद्दा

उठाइए अपना मुद्दा, ओबेन न्यूज़ बनेगा आपकी आवाज। शिक्षा, सड़क, बिजली, नौकरी, काम से सम्बन्धित किसी भी मुद्दे का वीडियो बना कर 9111124210 पर भेजें।