युवाओं की नसों में घुल रहा ड्रग का जहर

इंदौर | जिस तेजी से इंदौर का विकास हो रहा है, उसी तेजी से अपराध और आपराधिक तत्व भी शहर में बढ़ते जा रहे हैं। इसमें हाई सोसायटी और हाई प्रोफाइल लोगों के अपराधों का स्टैंडर्ड अलग है, तो वहीं निम्न वर्ग के लोगों का अपराध अलग किस्म का है। विकास के साथ ही शहर में आधुनिकता की अंधी दौड़ चल रही है और इसी के चलते ड्रग और नशे का अवैध कारोबार भी शहर में पनपता जा रहा है। हाई प्रोफाइल लोग और ऐसी सोसायटी के युवा आजकल ड्रग के शिकार हो रहे हैं। ड्रग लेना इस सोसायटी में शान समझा जा रहा है।

वर्तमान समय में पूरा बॉलीवुड भी इसी ड्रग के चक्कर में घिरा हुआ है। आजकल के युवा भी इन्हीं फिल्मी कलाकारों को अपना आदर्श मानते हैं और उनके जैसा ही बनना भी चाहते हैं। साथ ही अपने चहेतों को फॉलो करते हैं। ऐसा बनने के चक्कर में वे कब ड्रग की अंधेरी गलियों में खो जाते हैं, यह वे खुद भी नहीं समझ पाते… और ड्रग एडिक्ट बन जाते हैं। वहीं अपना भविष्य अंधकारमय बना लेते हैं।

आजकल शहर की होटलों, रिसोर्ट, पब और ऐसी ही अन्य जगहों पर ऐसी ड्रग्स पार्टियां आयोजित की जाती हैं और इनमें युवाओं की नसों में जहर घोलने की छूट दी जाती है। पैसा कमाने की लालच में ऐसी पार्टियां होती हैं, वहीं पैसे के दम पर ही पुलिस और प्रशासन का मुंह भी बंद कर दिया जाता है। ऐसी पार्टियों के बारे में पुलिस और प्रशासन जानकर भी अंजान बन जाते हैं। वहीं कहीं खुलासा भी होता है तो मामले में लीपापोती हो जाती है।

सवाल यह है कि शहर के युवाओं को इस अंधेरी गर्त में जाने से रोकने का जिम्मा कौन उठाएगा? यही हाल निम्न वर्गीय युवाओं का है। ये युवा भी प्रतिबंधित नशा करते हैं और अपराधिक वारदातों को अंजाम देते हैं। शहर की इस गंभीर समस्या की ओर ना तो जिम्मेदारों का ध्यान है और ना ही सामाजिक लोगों का।

क्रेडिट : अंकुर जायसवाल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

इसे भी पढ़े

google-site-verification=I1CQuvsXajupJY4ytqNfk1mN82UWIIRpwhZUayAayVM