MP में 60 हजार मरीजों में है एक डॉक्टर, ग्रामीण अंचलों की स्वास्थ्य सेवा भगवान भरोसे

मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में स्वास्थ्य सेवाओं पर सरकार ने कोई काम नहीं किया है. ये बात हम नहीं सरकारी आंकड़े बता रहे हैं. मध्य प्रदेश में 60 हजार मरीजों के बीच एक चिकित्सक (Doctor) है. वहीं ग्रामीण अंचलों में स्वास्थ्य सेवा बिल्कुल ठप पड़ी है. कोरोना (Corona) की दूसरी लहर से जूझ रहे मध्य प्रदेश के ग्रमीण इलाकों को देखने में ऐसा लगता है कि वहां कि स्वास्थ्य सेवा भगवान भरोसे चल रही है.

ऐसा इसलिए क्योंकि जमीनी हकीकत दावों से बिल्कुल अलग है. मप्र की कई तहसीलो में 60-80 हजार ग्रामीणों के बीच सिर्फ एक डॉक्टर दिन रात ड्यूटी दे रहा है.

जिले में कोरोना संक्रमण शहर से लेकर ग्रामीण क्षेत्रों तक विकराल रूप ले चुका है. जिले का ऐसा गांव या मोहल्ला नहीं बचा है, जहां कोरोना संक्रमित ना हों. वहीं दूसरी तरफ राज्य सरकार के निर्देश के बाबजूद कोरोना संक्रमित लोगों के मिलने के बाद भी कंटेनमेंट जोन बनाने में लापरवाही बरती जा रही है.

जिसके कारण छोटे-छोटे कस्बों में लोग बीमार पढ़ रहे हैं. इसके चलते मरीज स्वास्थ्य केंद्र का चक्कर काट रहे हैं और जब स्वास्थ्य केंद्र में मरीजों को डॉक्टर नहीं मिलते तो लोग झोलाझाप डॉक्टरों से इलाज कराने को मजबूर होकर अपनी जान से हाथ धो बैठते हैं.


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

इसे भी पढ़े